Font Sign In / Register
शब्दकोश Dictionary
अंग्रेज़ी-हिन्दी शब्द अनुवाद
 
www.swargvibha.tk
 
Opinion Poll
No-ball incident has made our players more aggressive, says M S Dhoni. Do you agree?
Yes
No
Can't Say
Please answer this simple math question 6 + 1 = 7
   
 
Social Media
 
 
 
 
 
Email
दक्षता और मानवीयता का दूसरा नाम है डा. पवन वासुदेव – एम वाई सिद्दीकी
11/10/2014 4:58:39 PM
Post Your Review

- एम वाई सिद्दीकी

क अच्छे डा. की पहचान उसके मधुर व्यवहार, दक्षता, निर्णायक क्षमता से परिपूर्ण और दूसरों का ख्याल करने वाला और दयालु होना ऐसे गुण हैं जो सभी डाक्टरों में एक साथ नहीं मिलते। सबसे बड़ी बात यह कि वह डा. जो रोगी की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझते हुए बिना समय गंवाए रोगी का उपचार मानवीय आधार पर करे न किसी विशेष भाव के जो कि आज के समय में विभिन्न व्यवसायिक हितों पर केंद्रित होता चला जा रहा है।

ऐसे ही गुणों से भरपूर डा. पवन वासुदेवा भी वर्तमान समय के अन्यों की तुलना मानवीय गुणों से भरे हुए रोगी की पीड़ा को अपनी पीड़ा की तरह समझकर उसका उपचार करते हैं। यही कारण है कि उनके पास आने वाले रोगियों में ज्यादातर बुजुर्ग लोग हैं जो उनके इन्हीं गुणों के कारण उनसे मिलकर बात करने को लालायित रहते हैं। यानी इन रोगियों को डा. वासुदेवा से मिलकर दवा से ज्यादा उनके मधुर और आत्मीय व्यवहार से मुग्ध रहते हैं।

वर्तमान समय में डा. वासुदेवा नई दिल्ली स्थित वर्धमान महावीर मेडिकल कालेज में सहायक प्रोफेसर हैं और सफदरजंग अस्पताल में मूत्र संबंधी रोगों के प्रख्यात ज्ञाता हैं। उन्होंने अपने पूर्व वरिष्ठ डा. एन.के. मोहंती की जगह पर तैनात हैं।

1977 में जन्में डा. पवन बहुत ही गहराई तक ज्ञान रखने वाले मू़त्र संबंधी रोगों के dr.pawan.vasudeva.jpgजानकार हैं। इनका अकेडमिक और व्यवहारिक क्लीनिकल जानकारी बहुत ही उम्दा है और उन्होंने 2001 में इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की डिग्री हासिल की थी। 2005 डा. पवन ने एडिनवर्ग रायल कालेज   से एमएस की डिग्री हासिल की उसके बाद में 2006 में सीएसएमएमयू लखनउ से एमसीएच की डिग्री हासिल की। उन्होंने छह माह तक एम्स में जटिल गुर्दा प्रत्यारोपण की क्लीनिकल ट्रेनिंग हासिल की। इसके अलावा डा. वासुदेवा ने 2012 में आस्ट्रिया के इंसब्रक अस्पताल में न्यूरो यूरोलाॅजी और पफीमेल यूरोलाजी पर गहन अध्ययन किया यह कार्य उन्होंने यूरोपियन स्काॅलशिप कार्यक्रम के तहत किया था। इसके अलावा बाल ग्रिस्ट यूनिवर्सिटी ज्यूरिख, स्विटजरलैंड में रहे इसके अलावा इन्होंने न्यूरोलाॅजिस्ट के रूप में क्रेंकेनहास में भी 2012 में रहे और विभिन्न प्रकार के शोध कार्यों को अंजाम दिया।

डा. पवन वासुदेव की अन्य उपलब्धियों में अनगिनत पुरस्कार और सम्मान हैं। 2013 में प्रोस्टेट को लेकर इनके कई सार तथ्य प्रकाशित हो चुके हैं। इनकी 34 प्रोफेशनल आर्टिकल्स भी प्रकाशित हो चुके हैं जिसमें से 21 पेपर अंतरराष्ट्रीय जर्नल में प्रकाशित हुए हैं। इसके अलावा दर्जनों सार तथ्य भी विभिन्न राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय जर्नलों में छाए रहे हैं।

भारत में शायद पहले डा. हैं जिन्हें न्यूरो यूरोलाजी के क्षेत्र में यूरोपियन यूनियन की ओर से फेलोशिप मिला है जिसमें इन्होंने कई उपलब्धियां हासिल की। डाक्ट पवन आस्ट्रिया के मशहूर न्यूरा यूरोलाॅजिस्ट हेलमुंट मादरशर के अधीन गहन शोध को पूरा किया है।

न्यूरा यूरोलाजी में समस्या के कई कारण हो सकते हैं जिसमें स्ट्रोक, रीढ़ कर हडृडी में चोट लगना, पार्किंसन आदि से संबंधित है। डा. पवन का नाम उन डाक्टरों की सूची में शामिल हैं। सरकारी दस्तावेजों से मिली जानकारी के अनुसार डा. पवन का नाम उन मेहनती और अत्यधिक ध्यान देने वाले डाक्टरों की सूची में शामिल है। हरेक सोमवार को डा. वासुदेवा रोगियों से मिलते हैं और बिना किसी भेदभाव के सभी के साथ मित्रवत व्यवहार रखते हुए अपनों की तरह उपचार का मंत्र देते हैं। मानों वह डा. न होकर ऐसा अध्यात्मिक व्यक्ति हो जो उपचार से ज्यादा अपने सद्व्यहार से मरीजों की आधी पीड़ा यूं ही हर लेता है।

डा. वासुदेवा की अन्य महत्ती जानकारी और ज्ञान का क्षेत्र प्रोस्टेट कैंसर का इलाज करना है। सफदर जंग अस्पताल में रोगियों की इच्छा होती है कि उन्हें डा. वासुदेवा ही देखें, उपचार करें। अस्पताल में उनकी मांग को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि अस्पताल के स्वागत कक्ष पर बैठी महिला को लोगों को यह आश्वासन देते हुए देखा जा सकता है कि आप धैर्य रखें आपका इलाज निश्चित रूप डा. वासुदेवा ही करेंगे। लेकिन लोगों का धैर्य सैलाब बन जाता है खासकर सोमवार को। यह उनकी अप्रतिम लोकप्रियता को दर्शाता है।

यही कारण है कि डा. पवन वासुदेव के रोगियों में उच्चतम स्तर तक पूर्णतः संतुष्टि का भाव देखा जा सकता है। उनके साथ कार्य करने वाले कर्मचारी भी उनकी इस लोकप्रियता को अपने पक्ष में कुछ पाने की कोशिश करते देखे जा सकते है। डा. पवन के रोगियों में अवसाद के लक्षण अपने आप खत्म हो जाता है यह उनकी कार्य दक्षता और जीवन को नए सिरे जीने की अदम्य साहस प्रदान करने वाली बातों का प्रभाव कहें या उनके व्यवहार में झलकती आत्मविश्वास को लेकिन यह तो तय है कि धरती के भगवान कहे जाने वाले डाक्टरों की सूची में डा. वासुदेवा का नाम सरकारी रिकार्ड से नहीं बल्कि उनके रोगियों में जीवन जीने की जिजीविषा की बढ़ती भावना को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है। अपने जीवन के तीस बसंत देख चुके डा. पवन की लोकप्रियता और उनकी यूरालाॅजी में दक्षता का लोहा तो मानना ही पड़ेगा क्योंकि रोगी को जो आत्मसंतोष मिलता है उसकी कल्पना केवल और रोगी ही कर सकता है। उनके महत्ती कार्य को देश एक दिन जरूर देखेगा और उसका इनाम भी देगा। एक सरकारी अस्पताल में रहते हुए जिस सेवा भाव से वह रोगियों का दिल जीतते हैं वह किसी प्राइवेट अस्पताल में भी नहीं मिल सकता। यह हमारे देश का सौभाग्य है कि हमारे सरकारी अस्पतालों में डा. पवन वासदेवा जैसे डा. भी लोगों से यश और आशीर्वाद पा रहे हैं। आज के व्यवसायिक उपचार सेवा में जो विद्रूपताएं घुस आई हैं शायद डा. पवन जैसे लोगों के कारण उसकी उच्च भावना आज भी जिंदा हैं।

 

एम वाई सिद्दीकी

 (लेखक - पूर्व प्रवक्ता विधि व न्याय और रेल मंत्रालय, भारत सरकार)

  ***

 Shubham-OK-529X180.JPG


HDFC-Ad-400X290.JPG

Expertise and Humanity is the name of Dr. Pawan Vasudeva – M Y Siddiqui

,



 

Post Your Review

Your Name  
Your Email  
Your Comment:
Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)
 
      
 
 
Go To Top
 
Login

     
 
                 

             

New User! Register Here.
Forgot Password?
 
 
 
 
Online Reference
Dictionary, Encyclopedia & more
Word:
by:
 
Traffic Rank
 
 
About Us  |   Contact Us   |   Term & Conditions   |   Disclaimer  |   Privacy Policy  |   copyright © 2010... Powered by : InceptLogic