Font Sign In / Register
शब्दकोश Dictionary
अंग्रेज़ी-हिन्दी शब्द अनुवाद
 
www.swargvibha.tk
 
Opinion Poll
No-ball incident has made our players more aggressive, says M S Dhoni. Do you agree?
Yes
No
Can't Say
Please answer this simple math question 6 + 1 = 7
   
 
Social Media
 
 
 
 
 
Email
निकियां जिंदा बड़े साहिब के
1/1/2011 12:32:05 PM
Post Your Review

रवींद्र सिंह राठी


भारत वर्ष पर पठानों व मुगलों ने कई सौ साल तक राज किया। उन्होंने अपने राज की मजबूती व इस्लाम धर्म को भारत के कोने-कोने तक फैलाने के लिए हिंदुओं पर जुल्म करने शुरू कर दिए। औरंगजेब ने तो जुल्म करने की सभी हदें पार कर दी। हजारों मंदिर गिरा दिए गए। हिंदुओं को घोड़ी पर चढ़ना व पगड़ी बांधना निषेध कर दिया और एक खास टैक्स जिसको जजिया टैक्स कहा जाता था। हिंदु कौम में फूट व निर्बलता के कारण इन जुल्मों का विरोध नहीं हो रहा था। यहां तक कि राजपूतों ने अपनी बेटियों के रिश्ते भी मुगल राजाओं से शुरू कर दिए।

 

सूरा सो पहचानिये, जो लड़े दीन के हेत।

पुर्जा-पुर्जा कर मरे, कबहू ना छोड़े खेत।।

 

सिख धर्म के दसवें गुरु साहिब गुरु गोबिंद सिंह जी ने यह महसूस किया कि निर्बल हो चुकी हिंदु कौम में अलग से जीने की जागृति पैदा की जाए। उन्होंने 1699में बैसाखी वाले दिन आनंदपुर साहिब में अमृत पान करा कर एक अनोखी कौम तैयार की। जिसका नाम खालसा पंथ रखा। मई-जून 1704 में दिल्ली की सेना, सरहिंद व लाहौर सूबे की सेना व बाईधार के पहाड़ी राजाओं ने मिलकर गुरु गोबिंद सिंह जी पर आक्रमण कर दिया। सिखों ने पूरी ताकत से मुकाबला किया व सात महीने तक आनंदपुर साहिब के किले पर कब्जा नहीं होने दिया। आखिर में मुसलमान शासकों ने कुरान की कसम खाकर व हिंदु राजाओं ने गऊ माता की कसम खाकर गुरु जी से किला खाली कराने के लिए विनती की। 


20 दिसंबर, 1704 की रात को किला खाली कर दिया गया और गुरु जी अपनी सेना के साथ रोपड़ की तरफ कूच कर गए। सुबह जैसे ही मुगल सेना को पता चला, उन्होंने कसमें तोड़ते हुए गुरु जी पर हमला कर दिया। लड़ते-लड़ते सिख सिरसा नदी पार कर गए व चमकौर गढ़ी में 37 सिखों व गुरुजी और उनके दो बड़े साहिबजादों ने मोर्चा संभाला।

यह संसार की अदभुत जंग थी क्योंकि 80 हजार मुस्लमानों से केवल 40 सिखों का मुकाबला था। जब सिखों का गोला बारूद खत्म हो गया तो गुरु जी ने 5-5 सिखों का जत्था बनाकर मैदाने जंग में भेजने शुरू कर दिए। बड़े साहिबजादे भी लड़ाई में गुरु जी की आज्ञा लेकर शामिल हुए व 17 और 15 साल की छोटी उम्र में ही युद्ध में जोहर दिखा कर शहीद हो गए। लेकिन सिखों ने शाम तक कब्जा नहीं होने दिया। गुरु साहिब जी के तीरों के आगे मुगल सेना असहाय बनी रही। रात को पांच सिखों ने गुरु जी के पांच प्यारों की हैसियत में गढ़ी को छोड़ कर चले जाने का हुकम दिया। गुरु जी हुकम मानते हुए ताड़ी मार कर व ललकार करके माकीवोड़ को चले गए।


दूसरी तरफ सिरसा नदी पार करते समय गुरु जी की माता गुजरी जी व दोनों छोटे साहिबजादे बिछड़ गए। गुरु जी का रसोईया गंगू ब्राह्मण उन्हें अपने गांव सहेड़ी ले गया। रात को उसने माताजी की सोने की मोहरों वाली गठरी चोरी कर ली। सुबह माता जी के पूछने पर आग बबूला हो गया और उसने गांव के चौधरी को गुरु जी के बच्चों के बारे में बता दिया। दूसरे दिन गंगू व चौधरी ने मोरिंडा के हाकिम को भी बता दिया। हाकिम ने सरहिंद के नवाब के पास साहिबजादों व माता जी को भेज दिया। नवाब ने उन्हें ठंड़े बुरज में कैद कर दिया। दो तीन दिन तक उन बच्चों को मुसलमान बनने के लिए मजबूर किया गया। जब वे ना माने तो उन्हें डराया धमकाया गया। ऊंचे पदों व रिश्तों के प्रलोभन भी दिए गए। लेकिन साहिबजादे ना डरे, ना लोभ में अपना धर्म बदलना स्वीकार किया। सुचानंद दीवान ने नवाब को उकसाया कि यह सांप के बच्चे हैं इन्हें कत्ल कर देना चाहिए। अंत में काजी बुलाया गया जिसने उन्हें जिंदा ही दीवार में चिनवा कर मार देने का फतवा दे दिया। उस समय दरबार में मलेर कोटला का नवाब शेर मुहम्मद खां भी उपस्थित था। उसने इस फतबे का विरोध किया और दरबार से उठ कर चला गया।

 

27 दिसंबर 1704 में फतवे अनुसार बच्चों को दीवारों में चिना जाने लगा। जब दीवार घुटनों तक पहुंची तो घुटनों की चपनियों को तेसी से काटा गया साहिबजादे बाबा फतेह सिंह व जोरावर सिंह बने मिसाल-281X378.JPGताकि दीवार टेड़ी न हो जाए। जुल्म की हद हो गई। सिर तक दीवार के पहुंचने पर शाशल बेग व वाशल बेग जल्लादों ने तलवार में शीश कर साहिबजादों को शहीद कर दिया। उनकी शहादत की खबर सुन कर दादी माता भी प्रलोक सिधार गई। लाशों को खेतों में फेंक दिया गया।


सरहिंद के एक हिंदू साहूकार रोडरमल जी को जब इसका पता चला तो उसने उनका संस्कार करने की सोची। उसको कहा गया कि जितनी जमीन संस्कार के लिए चाहिए उतनी जगह पर सोने की मोहरे बिछानी पड़ेगी। कहते हैं कि उसने घर के सब जेवर व सोने की मोहरें बिछा करके साहिबजादों व माता गुजरी का दाह संस्कार किया। संस्कार वाली जगह पर बहुत सुंदर गुरुद्वारा जोती स्वरूप बना हुआ है। जबकि शहादत वाली जगह पर भी एक बहुत बड़ा गुरुद्वारा सुशोभित है।


हर साल दिसंबर 25 से 27 दिसंबर तक बहुत भारी जोड़ मेला इस स्थान पर (फतेहगढ़ साहिब) लगता है जिसमें लाखों श्रद्धालु वहाँ पहुंच कर साहिबजादों को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं। 6  8 साल के साहिबजादे बाबा फतेह सिंह और जोरावर सिंह जी दुनिया को बेमिसाल शहीदी पैगाम दे गए। वे दुनिया में अमर हो गए। साहिबजादों की शहीदी पर एक मुसलमान लेखिक ने कितना सुंदर वर्णन किया है- सद साल और जी के भी मरना जरूर था, सर कौम से बचाना यह गैरत से दूर था।

*****

 

 RavindraRathi-94X121.jpgरवींद्र सिंह राठी

 

    जिला महासचिव

हरियाणा पत्रकार संघ (रजि)

,



 

Post Your Review

Your Name  
Your Email  
Your Comment:
Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)
 
      
 
 
Go To Top
 
Login

     
 
                 

             

New User! Register Here.
Forgot Password?
 
 
 
 
Online Reference
Dictionary, Encyclopedia & more
Word:
by:
 
Traffic Rank
 
 
About Us  |   Contact Us   |   Term & Conditions   |   Disclaimer  |   Privacy Policy  |   copyright © 2010... Powered by : InceptLogic